इन्कलाब के लम्हों पर, क्यूँ इंतज़ार का पहरा है?

पत्थर का सीना तोड़ दिया, अब राह बनाना बाकी है|
धरती की माटी धधकी है, जल-धार बहाना बाकी है|

घर-घर में कैद पड़ी सीता, कूंचे-कूंचे में रावण है|
टंकार धनुष का राम करो, एक व्यूह रचना बाकी है|

उजडें हैं बाग़ तूफानों से, मुर्दे गुल, मरघट सुना है|
बरसात बहारों की आए, वह राग सुनाना बाकी है|

बहुतों का खून बहाते हैं, शहरों में शेर शराफत के|
बारूद लहू को बनने दो, यह रस्म जलाना बाकी है|

फिर इन्कलाब के लम्हों पर, क्यूँ इंतज़ार का पहरा है?
माथे पर कफ़न लपेटो तुम, एक वज़्म सजाना बाकी है|

Advertisements

5 Responses to इन्कलाब के लम्हों पर, क्यूँ इंतज़ार का पहरा है?

  1. Abha says:

    फिर इन्कलाब के लम्हों पर, क्यूँ इंतज़ार का पहरा है?
    माथे पर कफ़न लपेटो तुम, एक वज़्म सजाना बाकी है|

    oaj se bharpoor rachna..

    Like

  2. sujata says:

    bahuuuuuuuuuuut hi achchi rachna hain ye …bahut badhiya..anurag ji

    Like

  3. Dr Vishwas Saxena says:

    YES
    Now I see the desired and much awaited fire needed in your poetry——elaborate your verses into deeds suggesting action to this latent world.Love
    Dr Vishwas Saxena

    Like

  4. madhav chandra says:

    bahut hi utkrist aur oj purn rachnqa hai….
    meri kuch pangtiyan aapko bhent…..

    इन्कलाब के लम्हों पर, क्यूँ इंतज़ार का पहरा है?”
    wakt aakhir kis gali me thara hai..

    tere udghos ka jaane kya hoga ,
    ye sansaar to gunga behara hai..

    tere iraade kaise safal honge
    abhi tam ka ghana pehra hai

    Like

  5. Rewa Smriti says:

    “tere iraade kaise safal honge
    abhi tam ka ghana pehra hai”

    @Madhav ji,

    “Tam ka ghana chadar hatane
    hamara hath hamesha khada hai!”

    rgds.

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: