जीता रहा शब्दों को गढ़ने में!

जब भी जान पता हूँ अपने आप को,
आत्मग्लानी-सी महसूस होती है|
दो-चार कागज़ के टुकडों पर,
शब्दों का हेर-फेर,
और फिर भाव-विन्यासों का ढेर!
 
बस यहीं तक…,
मेरी संवेदनाओं  का संवहन..!
सिमित  रह जाता!
आज कलम ने चाह,
उकेरना उन बातों को!
जिन्हें सोच मैं अनायास ही,
घबरा जाता हूँ|
 
इक बेबसी, लाचारी!
जो खामोशी के पहलू में रहकर भी,
जीवन का तार-तार झकझोर जाती है|
 
हाँ, मैंने देखा है उसका चेहरा…!
देखते ही रोएं सिहर जाते  हैं|
हाँथ फैलाये..,बेबस आंखें..!
फटे-चीटे कपडों में,
लिपटा अस्थि-पंजर!
 
आंखें मेरी यूँ फिर जाती हैं,
जैसे सहानुभूति में भी कोसता हूँ  मैं,
अपने आपको!
 
सभी स्वार्थ साधते हैं…
मैंने भी ऐसा ही किया|
मैं देरों-तलक निहारता रहा,
उनकी दुर्दशा को!
मात्र कल्पनाओं में,
असह्य पीड़ा की वेदना का,
गुबार ओढ़कर मैं!
जीता रहा शब्दों को गढ़ने में|
केवल मात्र अपनी कविताओं की,
सांसें ताज़ी रखने के लिये…..!

Advertisements

3 Responses to जीता रहा शब्दों को गढ़ने में!

  1. हाँ, मैंने देखा है उसका चेहरा…!
    देखते ही रोएं सिहर जाते हैं|
    हाँथ फैलाये..,बेबस आंखें..!
    फटे-चीटे कपडों में,
    लिपटा अस्थि-पंजर!

    This beautiful poem today made me cry.

    Like

  2. Munna JEE says:

    marmik rachna

    Like

  3. Dear anurag
    Atleast you felt the pain sensation of the sufferer and urged to snatch away his pains.In this fast decaying world emotions [I dont call emotions to those which someone have for beloved] are just fading away spreading a syndrome of materialistic,interest motivated cancer of contacts and contracts.I value your sensuality but with a caution dont allow anyone pity you and dont pity anyone who does that cause we all are almighty god’s property,he will elevate us for our hardwork and punish for wrong deeds!I find a very promising poet budding out in you.But dont mind if I am not wrong someones dark shadow is unnecessarily pushing your thoughts.I am very confident you shall fight it out.Best of luck
    Your best fan
    Dr Vishwas saxena

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: