थमती हुई साँसों के आहट में छुपने को!

थमती हुई साँसों के,
आहट  में छुपने को|
दरिया-सी बहती अखियों के,
मौजों में मिटने को|
कैसे भला कोई?
मौत से इकरार करे,
सिमटते हुए लम्हों में,
जी-भर के प्यार करे!
 
वक़्त थमता यूँ अगर,
हसरतों की आड़ में|
फासले सब खत्म होते,
उम्र की दीवार में|
कैसे भला पतझड़ में?
दरख्त पत्तों से प्यार करे,
दरमियाँ मियादों के,
बुनियादों पर ऐतबार करे|
सिमटते हुए लम्हों में,
जी-भर के प्यार करे!
 
जिंदगी के ज़ख्म इतने,
हो गये नासूर-से|
रिश्तों की भीड़ में ही,
हो गये हम दूर-से|
कैसे भला कोई?
इन दूरियों  को पार करे|
होंठ सुखे हो मगर,
प्यास से इनकार करे|
सिमटते हुए लम्हों में,
जी-भर के प्यार करे!

Advertisements

3 Responses to थमती हुई साँसों के आहट में छुपने को!

  1. mehek says:

    bahut achhi lagi rachana,jeevan ke gehe bhav liye.

    Like

  2. dr vishwas saxena says:

    dear anurag
    you have filled air in the dieing breath to an extent that lively breath have faded out!bravo —when you can do so much with these limited few ‘sansey’i am sure you are blessed with countless breaths in the life to come forth!– spread these breaths carrying soothing pain sensation to the society suffering with
    paralysis of emotions and look it is a bigule of new mahabharata–find sitting on the flag of your charriot!—you are not alone in this mahasamar.love
    Dr Vishwas saxena

    Like

  3. “कैसे भला कोई?
    मौत से इकरार करे,
    सिमटते हुए लम्हों में,
    जी-भर के प्यार करे!”

    The words in your poem often sounds beautiful and sums up everything.

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: