ढूंढ़ता तन्हाइयों को इक खुले आकाश में…!

ढूंढ़ता तन्हाइयों को,
इक खुले आकाश में|
देखता परछाइओं को,
मौत की तलाश में|

आसमां भी रो पड़ा,
ये सोच तनहा है सफ़र|
एक टक वो देखता,
आए कहीं कोई नज़र|
देरों तलक निहारता,
शायद किसी की आस में|
ढूंढ़ता तन्हाइयों को,
इक खुले आकाश में|

चाँद-तारे सब के सब,
जानते हर बात को|
देखा है सबने साथ ही,
आसमां की बरसात को|
भींगतें हैं वो सभी,
रह आसमां के पास में|
ढूंढ़ता तन्हाइयों को,
इक खुले आकाश में|

चातक को है क्या पड़ा?
स्वाति की इक बूंद का|
चकोर भी है बावड़ा,
चाँद की इक धुन्द का|
जाने क्यूँ परेशां हैं सब?
गुमनाम-से इक प्यास में|
ढूंढ़ता तन्हाइयों को,
इक खुले आकाश में|

बुझती चिराग अब,
जोर है तूफान का|
टूटती दिवार अब,
हर पक्के मकान|
पत्थरों में देख करुणा,
जाने जीतें हैं क्यूँ विश्वास में?
ढूंढ़ता तन्हाइयों को,
इक खुले आकाश में|

ऐ दिल तूँ सुन यूँ ना मचल,
ये असर है उनके साथ का|
वादा किया करतें हैं वो,
क्या भरोसा बात का?
तूँ गुम है इतना क्यूँ भला?
दो पल के एहसास में|
ढूंढ़ता तन्हाइयों को,
इक खुले आकाश में|

Advertisements

4 Responses to ढूंढ़ता तन्हाइयों को इक खुले आकाश में…!

  1. चातक को है क्या पड़ा?
    स्वाति की इक बूंद का|
    चकोर भी है बावड़ा,
    चाँद की इक धुन्द का|
    जाने क्यूँ परेशां हैं सब?
    गुमनाम-से इक प्यास में|
    ढूंढ़ता तन्हाइयों को,
    इक खुले आकाश में|

    Beautiful Poem. I liked this stanza very much.

    Like

  2. raina says:

    really very nice poem. i love poems very much but i ca’nt do poetry. i am feeling that someone expressing me.

    Like

  3. Dr Vishwas Saxena says:

    Dear anurag
    I feel that obscure loneness is always better than a treachorous cotraveller!friend look around you’ll find so many to join you sent by almighty—Why to ruin such a beautiful scene by extracting happiness only by the presence of a beloved! I feel thy presence is acknowledged only because You are already there—! long ago my one of all time favourite Shammi Kapoor sang a few boisterous versus—
    हम ही जब न होंगे तो ऐ दिलरूबा किसी देखकर हाए शरमाओगी–
    जो देखोगी तुम कभी आईना —-
    हमारे बिना बहुत घब्रओगि—
    so why to crave for someone arrival when our presence itself is so imposing and complete!regards and wishes your true fan
    Dr Vishwas Saxena

    Like

  4. man hua prafullit pahli baar
    aaj mili mujhko swarmaal
    baar -baar padhane ko aatur
    hai kuch aisee amritdhar.

    really bahut 2 acha likhate hai aap………..uparyukt lines only for u……..jo khud ba khud dil se gungunati huee juba par aakar kavita ban gaee….aap jaise vidwan log hi vastav me sache kavi kahne ke adhikari hai…..thanks a lot.isee tarah apni lekhini ki jyoti jalakar… mujh nacheej ko khud se
    judane ka awasar pradan karana.thanks

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: