स्मृति ओढ़ता जीवन-कण!

वेदना के दंश से,
फिर मन हुआ अधीर|
ये शब्दों के सिलवट नहीं,
हैं मेरे नयनों के नीर|

शब्द बेधते, अचूक लक्ष्य कर,
धुआँ उगलती, बुझी बाती|
क्षण-भर का अभिमान धरा,
है क्षण-भर की मेरी थाती|
स्वयं नहीं जब समझे मुझको,
तो क्या?, लिख भेजूं पाती|

मेरा होना, ना होना,
जैसे बह चले समीर|
ये शब्दों के सिलवट नहीं,
हैं मेरे नयनों के नीर|

चंचल क्षण की स्मृति,
हुक-प्रसव-सा लिये वरण|
कैसी अबूझ पहेली अपनी,
स्मृति ओढ़ता जीवन-कण|
मेरी भाषा, क्या परिभाषा,
निशि-दिशी पावस का क्रंदन|
रक्तिम चक्षु, अश्रु विप्लव,
सन्दर्भ-शेष का सार रुदन|

मेरी भाग्य विधा है जैसे,
शिला पर खिंची लकीर|
ये शब्दों के सिलवट नहीं,
हैं मेरे नयनों के नीर|

Advertisements

4 Responses to स्मृति ओढ़ता जीवन-कण!

  1. Rewa Smriti says:

    उत्तर

    इस एक बूँद आँसू में
    चाहे साम्राज्य बहा दो
    वरदानों की वर्षा से
    यह सूनापन बिखरा दो

    इच्छा‌ओं की कम्पन से
    सोता एकान्त जगा दो,
    आशा की मुस्कराहट पर
    मेरा नैराश्य लुटा दो ।

    चाहे जर्जर तारों में
    अपना मानस उलझा दो,
    इन पलकों के प्यालो में
    सुख का आसव छलका दो

    मेरे बिखरे प्राणों में
    सारी करुणा ढुलका दो,
    मेरी छोटी सीमा में
    अपना अस्तित्व मिटा दो !

    पर शेष नहीं होगी यह
    मेरे प्राणों की क्रीड़ा,
    तुमको पीड़ा में ढूँढा
    तुम में ढूँढूँगी पीड़ा !

    लेखिका: महादेवी वर्मा

    Like

  2. लौटी जब भी अतित में
    भर भर आये नयन
    अधरों पर अंकित हैं आज भी
    बीते लम्हों की “स्मृति चिन्ह”!

    Like

  3. अपने दिल का दर्द ये
    उमर भर हस कर पिए
    जीना उसका जीना है
    जो औरों की खातिर जिए
    काम ले ज़िंदादिली से
    यूँ ही खेले जिंदगी से
    राज़ ये जाना उसी ने
    ज़िंदगी क्या है ज़िंदगी

    Like

  4. dear anurag
    before start saying anything i declare that I am a towering fan of you and your poetry.Now after this declaration I aquire full right to speak candidly.
    I cannot stand the self pity state of my hero at all.Life never stops and good & bad scenes keep on appearing till we breath our last.Why to cling to past when still better moments await ahead.Keep those emotions in a locked chest of your manly chest and squeeze energy from pains the departed one has given.Come again in the arena and challenge the person in question by elevating your persona to a size.Friend I have isolated a very conspicious shadow in your poems and unfortunately it has niether completely departed from the scenario nor is in state to stand firm. So manly act would e push that shadow hard so that it is gone away from the scene and make your best available to us.Otherwise also unlucky would be any person who shall part from you.And now let me reveal two facts,first I have seen that shadow responsive and receptive to you in every poem of yours and second is I am going to fr5agment thuis shadow so that your vision for world is liberated and we get best of you.Belive me I am your biggest fan and you are the best poet available on this website.Regards
    Dr Vishwas saxena

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: