“मन-मन पवन कछु पावत है”

शशि, चन्द्र विलोचन नयन, मुख|
तोहे पदम् कदम मोहे भावत है||
चर-चारू कंद बदन तोरा|
मन मोरा हर्षय लावत है||
हरणी सी चलत इत-उत ठुमकत|
तोहे देख मोरा मन गावत है||
तोरे नयन कटारी चलत जिधर|
नव किरण कुञ्ज फैलावत है||
चलत पवन, पट सटत बदन|
मन-मन पवन कछु पावत है||
तोरे लट उलझे घट-पनघट|
बदरी घट-घट बरखावत है||
तोहे पायल की खन-खन,सुनी-सुनी|
रज,राग,रंग तंग ढ़ावत है||
चल सजनी आगे-आगे|
“अनुराग” पीछे से आवत है||

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: