भंवरे भी “अनुराग” करने लगे

अहनद नाद पे पायली झूम-झूम|
सुन-सुन, रुन-झुन श्रृंगार करने लगे||

विरह की तम नम अखियाँ निहारे|
निशा, शशि हँसी-हँसी के बिहान करने लगे||

चन्द्र की चकोरी, चाहे प्रेम की निबोरी|
बदरा भी झूमी यशगान करने लगे||

पंकज-पंखुरी की पराग की ज्यों राग|
इह देखि भंवरे भी “अनुराग” करने लगे||

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: