बेबसी का तूफ़ान

लोगों की नज़रों में,
अज़ीब-सी,
बेबसी का तूफ़ान

जो तोड़ता उनके दम को
जो मज़बूर करता मरने को

पर यूँ ही जिजीविषा,
दर-बदर भटक-भटक

धुल के हर कण में
मरते हर क्षण में

तिरस्कार से!
चीत्कार से!
आभार से!
अन्धकार से!
अत्याचार से!

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: